कुब्जा कूप

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
*श्रीकृष्ण ने देखते -देखते ही उसकी कमर और ठोढ़ी को अपने हाथों से स्पर्श कर उसे अप्सरा जैसी परम सुन्दरी किशोरी के रूप में परिणत कर दिया।  
 
*श्रीकृष्ण ने देखते -देखते ही उसकी कमर और ठोढ़ी को अपने हाथों से स्पर्श कर उसे अप्सरा जैसी परम सुन्दरी किशोरी के रूप में परिणत कर दिया।  
 
*कुब्जा ने काम भरी लजीली आँखों से उनकी ओर देखकर उन्हें अपने घर ले जाना चाहा, किन्तु श्रीकृष्ण अपना कार्य पूर्ण होने पर पीछे आने का वचन देकर चले गये।  
 
*कुब्जा ने काम भरी लजीली आँखों से उनकी ओर देखकर उन्हें अपने घर ले जाना चाहा, किन्तु श्रीकृष्ण अपना कार्य पूर्ण होने पर पीछे आने का वचन देकर चले गये।  
*कंस–वध के पश्चात् कृष्ण ने [[उद्धव|उद्धवजी]] के साथ उसके इसी निवास स्थान पर कुछ समय के लिए उपस्थित होकर उसका मनोरथ पूर्ण किया।
+
*कंस–वध के पश्चात कृष्ण ने [[उद्धव|उद्धवजी]] के साथ उसके इसी निवास स्थान पर कुछ समय के लिए उपस्थित होकर उसका मनोरथ पूर्ण किया।
  
 
[[Category:कोश]]
 
[[Category:कोश]]

15:33, 16 फ़रवरी 2010 का संस्करण

कुब्जा कूप / Kubja Kup

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं