गीता 10:20

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
छो (Text replace - '<td> {{गीता अध्याय}} </td>' to '<td> {{गीता अध्याय}} </td> </tr> <tr> <td> {{महाभारत}} </td> </tr> <tr> <td> {{गीता2}} </td>')
छो (Text replace - '<td> {{महाभारत}} </td> </tr> <tr> <td> {{गीता2}} </td>' to '<td> {{गीता2}} </td> </tr> <tr> <td> {{महाभारत}} </td>')
 
पंक्ति 59: पंक्ति 59:
 
<tr>
 
<tr>
 
<td>
 
<td>
{{महाभारत}}
+
{{गीता2}}
 
</td>
 
</td>
 
</tr>
 
</tr>
 
<tr>
 
<tr>
 
<td>
 
<td>
{{गीता2}}
+
{{महाभारत}}
 
</td>
 
</td>
 
</tr>
 
</tr>

12:12, 21 मार्च 2010 के समय का संस्करण

गीता अध्याय-10 श्लोक-20 / Gita Chapter-10 Verse-20

प्रसंग-


अब अपनी प्रतिज्ञा के अनुसार भगवान् बीसवें से उन्नीसवें श्लोक तक अपनी विभूतियों का वर्णन करते हैं-


अहमात्मा गुडाकेश सर्वभूताशयस्थित: ।
अहमादिश्च मध्यं च भूतानामन्त एव च ।।20।।



हे अर्जुन ! मैं सब भूतों के हृदय में स्थित सबका आत्मा हूँ तथा सम्पूर्ण भूतों का आदि, मध्य और अन्त भी मैं ही हूँ ।।20।।

Arjuna, I am the Self, seated in the hearts of all creatures. I am the beginning, the middle and the end of all beings. (20)


गुडाकेश = हे अर्जुन; सर्वभूताशयस्थित: = सब भूतों के हृदय में स्थित; आत्मा = सबका आत्मा हूं; भूतानाम् = भूतों का; मध्यम् = मध्य; एव = ही हूं



अध्याय दस श्लोक संख्या
Verses- Chapter-10

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
रसखान सम्बंधित लेख
टूलबॉक्स