गीता 10:21

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-10 श्लोक-21 / Gita Chapter-10 Verse-21


आदित्यानामहं विष्णुर्ज्योतिषां रविरंशुमान् ।
मरीचिर्मरूतामस्मि नक्षत्राणामहं शशी ।।21।।



मैं अदिति के बारह पुत्रों में विष्णु और ज्योतियों में किरणों वाला सूर्य हूँ तथा मैं उनचास वायु देवताओं में मरीचि नामक वायु देवता और नक्षत्रों का अधिपति चन्द्रमा हूँ ।।21।।

I am Visnu among the twelve sons of aditi, and the radiant sun among the luminaries; I am the glow of the maruts (the fortynine wind & gods)and the moon among the stars. (21)


आदित्यानाम् = अदिति के बारह पुत्रों में; विष्णु: = विष्णु अर्थात् वामन अवतार(और); ज्योतिषाम् = ज्योतियों में; अंशुमान् = किरणोंवाला; रवि: सूर्यहूं(तथा); अहम् = मैं(उन्चास); मरूताम् = वायु देवताओंमें; मरीचि: = मरीचिनामक वायुदेवता(और); नक्षत्राणाम् = नक्षत्रों में; शशी = (नक्षत्रों का अधिपति) चन्द्रमा अस्मि = हूं;



अध्याय दस श्लोक संख्या
Verses- Chapter-10

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स