गीता 10:39

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
Ashwani Bhatia (वार्ता | योगदान)ने किया हुआ 12:13, 21 मार्च 2010का अवतरण
(अंतर) ← पुराना संस्करण | वर्तमान संशोधन (अंतर) | नया संशोधन → (अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-10 श्लोक-39 / Gita Chapter-10 Verse-39


यच्चापि सर्वभूतानां बीजं तदहमर्जुन ।
न तदस्ति विना यत्स्यान्मया भूतं चराचरम् ।।39।।



और हे अर्जुन ! जो सब भूतों की उत्पत्ति का कारण है, वह भी मैं ही हूँ; क्योंकि ऐसा चर और अचर कोई भी भूत नहीं है, जो मुझसे रहित हो ।।39।।

Arjuna, I am even that which is the seed of all life. For there is no creature, moving or inert, which exists without Me. (39)


यत् = जो; सर्वभूतानाम् = सब भूतोंकी; बीजम् = उत्पत्ति का कारण है; तत् = वह; (एव) = ही(हूं); (यतJ = क्योंकि (ऐसा); चराचरम् = चर और अचर(कोई भी); भूतम् =भूत; यत् = जो; मया = मेरे से; विना = रहित; स्यात् = होवे



अध्याय दस श्लोक संख्या
Verses- Chapter-10

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स