गीता 11:23

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-11 श्लोक-23 / Gita Chapter-11 Verse-23


रूपं महत्ते बहुवक्त्रनेत्रं
महाबाहो बहुबाहूरूपादम् ।
बहूदरं बहुदंष्द्राकरालं
दृष्ट्वा लोका: प्रव्यथितास्तथाहम् ।।23।।



हे महाबाहो ! आपके बहुत मुख और नेत्रों वाले, बहुत हाथ, जंघा और पैरों वाले, बहुत उदरों वाले और बहुत-सी दाढ़ों के कारण अत्यन्त विकराल महान रूप को देखकर सब लोग व्याकुल हो रहे हैं तथा मैं भी व्याकुल हो रहा हूँ ।।23।।

O mighty-armed one, seeing this stupendous and dredful form of yours possessing numberous mouths and eyes, many arms, thights and feet, many bellies and many teeth, the worlds are terrorstuck; so am I . (23)


ते = आपके; बहुवक्त्रनेत्रम् = बहुत मुख और नेत्रोंवाले =(तथा); बहुबाहूरूपादम् = बहुत हाथ जंघा और पैरोंवाले(और); बहुदरम् = बहुत उदरोंवाले(तथा); बहुदंष्ट्राकरालम् = बहुतसी विकराल जाड़ोंवाले; दृष्टा = देखकर; लोका: सब लोक; प्रव्यथिता: = व्याकुल हो रहे हैं; अहम् = मैं; (अपि) = भी(व्याकुल हो रहा हूं



अध्याय ग्यारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-11

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10, 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26, 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41, 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स