गीता 11:9

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-11 श्लोक-9 / Gita Chapter-11 Verse-9

प्रसंग-


अर्जुन को दिव्य दृष्टि देकर भगवान् ने जिस प्रकार का अपना दिव्य विराट् स्वरूप दिखलाया था, अब पाँच श्लोकों द्वारा संजय उसका वर्णन करते हैं-

सञ्जय उवाच-


एवमुक्त्वा ततो राजन्महायोगेश्वरो हरि: ।
दर्शयामास पार्थाय परमं रूपमैश्वरम् ।।9।।



संजय बोले-


हे राजन् ! महायोगेश्वर और सब पापों के नाश करने वाले भगवान् ने इस प्रकार कहकर उसके पश्चात अर्जुन को परम ऐश्वर्य युक्त दिव्य स्वरूप दिखलाया ।।9।।

Sanjaya said-


My lord ! having spoken thus, Sri Krishna, the supreme master of yoga, forthwith revealed to Arjuna His supremely glorious divine form. (9)


हरि: = सब पापों के नाश करनेवाले भगवान् ने; एवम् = इस प्रकार; उक्त्वा =कहकर; पार्थाय = अर्जुन के लिये; परमम् = परम; ऐश्वर्ययुक्त; रूपम् = दिव्य स्वरूप; दर्शयोमास = दिखाया



अध्याय ग्यारह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-11

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10, 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26, 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41, 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स