गीता 14:20

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-14 श्लोक-20 / Gita Chapter-14 Verse-20


गुणानेतानतीत्य त्रीन्देही देहसमुद्भवान् ।
जन्ममृत्युजरादु:खैर्विमुक्तोऽमृतमश्नते ।।20।।



यह पुरुष शरीर की उत्पत्ति के कारण रूप इन तीनों गुणों को उल्लंघन करके जन्म, मृत्यु, वृद्धावस्था और सब प्रकार के दु:खों से मुक्त हुआ परमानन्द को प्राप्त होता है ।।20।।

Having transcended the aforesaid three Gunas, which have caused the body, and freed from birth, death, old age and all kinds of sorrow, this soul attains supreme bliss. (20)


देही = पुरुष ; एतान् = इन ; त्रीन् = तीनों ; गुणान् = गुणोंको ; अतीत्य = उल्लंघन करके ; जन्ममृत्युजरादु:खै: = जन्म मृत्यु वृद्धावस्था और सब प्रकार के दु:खों से ; देहसमुभ्दवान् = स्थूल शरीर की उत्पत्ति के कारण रूप ;विमुक्त: = मुक्त हुआ ; अमृतम् = परमानन्दको ; अश्नुते = प्राप्त होता है



अध्याय चौदह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-14

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स