गीता 15:12

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-15 श्लोक-12 / Gita Chapter-15 Verse-12

प्रसंग-


पहली शंका का उत्तर देने के लिये भगवन् बारहवें से पंद्रहवें श्लोक तक गुण, प्रभाव और ऐश्वर्य सहित अपने स्वरूप का वर्णन करते हैं-


यदादित्यगतं तेजो जगद्भासयतेऽखिलम् ।
यच्चन्द्रमसि यच्चाग्नौ तत्तेजो विद्धि मामकम् ।।12।।



सूर्य में स्थित जो तेज सम्पूर्ण जगत् को प्रकाशित करता है तथा जो तेज चन्द्रमा में है और जो अग्नि में हैं- उसको तू मेरा ही तेज जान ।।12।।

The light in the sun, that illumines the entire solar world, and that which shines in the moon and that too which shines in the fire, know that light to be Mine. (12)


यत् = जो ; तेज: = तेज ; आदित्यगतम् = सूर्य में स्थित हुआ ; अखिलम् = संपूर्ण ; जगत् = जगत् को ; भासयते = प्रकाशित करता है ; च = तथा ; यत् = जो (तेज) ; चन्द्रमसि = चन्द्रमामें स्थित है (और) ; यत् = जो (तेज) ; अग्नौ = अग्नि में (स्थित है) ; तत् = उसको (तूं) ; मामकम् = मेरा ही ; तेज: = तेज ; विद्धि = जान ;



अध्याय पन्द्रह श्लोक संख्या
Verses- Chapter-15

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स