गीता 1:13

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-1 श्लोक-13 / Gita Chapter-1 Verse-13

प्रसंग-


धृतराष्ट्र ने पूछा था कि युद्ध में एकत्रित होने के बाद मेरे और पाण्डु के पुत्रों ने क्या किया, इसके उत्तर में संजय ने अब तक धृतराष्ट्र के पक्ष वालों की बात सुनायी। अब पाण्डवों ने क्या किया, उसे पाँच श्लोकों में बतलाते हैं-


तत: शाख्ङश्च भेर्यश्च पणवानकगोमुखा: ।
सहसैवाभ्यहन्यन्त स शब्दस्तुमुलोऽभवत् ।।13।।



इसके पश्चात शंख और नगारे तथा ढोल, मृदंग और नरसिंघे आदि बाजे एक साथ ही बज उठे । उनका वह शोर बड़ा भयंकर हुआ ।।13।।

Then conches kettledrums tabors, drums and trumpets suddenly blared forth and the noise was tumultuous.(13)


तत: = उसके उपरान्त; च =और; भेर्य: = नगारे; पणवआनकगोमुखा: = ढोल मृदंग और नृसिंहादि बाजे; सहसा =एक साथ; एव = ही;अभ्यहन्तयन्त = बजे (उनका); स: = वह; तुमुल: = बड़ा भंयकर; अभवत् =हुआ;



अध्याय एक श्लोक संख्या
Verses- Chapter-1

1 | 2 | 3 | 4, 5, 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17, 18 | 19 | 20, 21 | 22 | 23 | 24, 25 | 26 | 27 | 28, 29 | 30 | 31 | 32 | 33, 34 | 35 | 36 | 37 | 38, 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स