गीता 1:30

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
Ashwani Bhatia (वार्ता | योगदान)ने किया हुआ 12:32, 21 मार्च 2010का अवतरण
(अंतर) ← पुराना संस्करण | वर्तमान संशोधन (अंतर) | नया संशोधन → (अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-1 श्लोक-30 / Gita Chapter-1 Verse-30

प्रसंग-


अपनी विषादयुक्त स्थिति का वर्णन करके अब अर्जुन अपने विचारों के अनुसार युद्ध का अनौचित्य सिद्ध करते हैं-


गाण्डीवं स्त्रंसते हस्तात्त्वक्चैव परिदह्राते ।
न च शक्नोम्यवस्थातुं भ्रमतीव च मे मन: ।।30।।



हाथ से गाण्डीव धनुष गिर रहा है और त्वचा भी बहुत जल रही है तथा मेरा मन भ्रमित-सा हो रहा है, इसलिये मैं खड़ा रहने को भी समर्थ नहीं हूँ ।।30।।

i am now unable to stand here any longer. i am forgetting myself, and my mind is reeling. i foresee only evil, O killer of the Kesi demon.(30)


हस्तात् = हाथ से;गाण्डीवम् = गाण्डीव धनुष; स्त्रंसते =गिरता है; च =और; त्वक् = त्वचा; एव =भी; परिदह्ते = बहुत जलती है; भ्रमति इव =भ्रमित सा हो रहा है; अवस्थातुम् = खड़ा रहने को; न शक्रोमि =समर्थ नहीं है



अध्याय एक श्लोक संख्या
Verses- Chapter-1

1 | 2 | 3 | 4, 5, 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17, 18 | 19 | 20, 21 | 22 | 23 | 24, 25 | 26 | 27 | 28, 29 | 30 | 31 | 32 | 33, 34 | 35 | 36 | 37 | 38, 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स