गीता 1:7

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
|-
 
|-
 
| valign="top" |
 
| valign="top" |
'''अब दो श्लोकों में दुर्योधन अपने पक्ष के प्रधान वीरों के नाम बतलाते हुए अन्यान्य वीरों के सहित उनकी प्रशंसा करते हैं--'''
+
अब दो श्लोकों में दुर्योधन अपने पक्ष के प्रधान वीरों के नाम बतलाते हुए अन्यान्य वीरों के सहित उनकी प्रशंसा करते हैं--
 +
 
 +
'''अस्माकं तु विशिष्टा ये तात्रिबोध द्विजोत्तम ।'''
 +
'''नायका मम सैन्यस्य संज्ञार्थ तान् ब्रवीमि ते ।।7।।'''
 
----
 
----
 
हिन्दी टॅक्स्ट  
 
हिन्दी टॅक्स्ट  

08:48, 7 अक्टूबर 2009 का संस्करण


गीता अध्याय-1 श्लोक-7 / Gita Chapter-1 Verse-7

अब दो श्लोकों में दुर्योधन अपने पक्ष के प्रधान वीरों के नाम बतलाते हुए अन्यान्य वीरों के सहित उनकी प्रशंसा करते हैं--

अस्माकं तु विशिष्टा ये तात्रिबोध द्विजोत्तम । नायका मम सैन्यस्य संज्ञार्थ तान् ब्रवीमि ते ।।7।।


हिन्दी टॅक्स्ट

श्लोक


शीर्षक


हिन्दी टॅक्स्ट

Heading


English text.


यहाँ संस्कृत शब्दों के अर्थ डालें

अध्याय एक श्लोक संख्या
Verses- Chapter-1

1 | 2 | 3 | 4, 5, 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17, 18 | 19 | 20, 21 | 22 | 23 | 24, 25 | 26 | 27 | 28, 29 | 30 | 31 | 32 | 33, 34 | 35 | 36 | 37 | 38, 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स