गीता 2:14

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-14 / Gita Chapter-2 Verse-14

प्रसंग-


इन सबको सहन करने से क्या लाभ होगा ? इस जिज्ञासा पर कहते हैं-


मात्रास्पर्शास्तु कौन्तेय शीतोष्णसुखदु:खदा:।
आगमापायिनोऽनित्यास्तांस्तितिक्षस्व भारत ।।14।।




हे कुन्ती पुत्र ! सर्दी-गर्मी और सुख-दु:ख को देने वाले इन्द्रिय और विषयों के संयोग तो उत्पत्ति, विनाशशील और अनित्य हैं, इसलिये हे भारत ! उनको तू सहन कर ।।14।।


O son of Kunti, the contacts between the senses and their objects, which give rise to the feeling of heat and cold, pleasure and pain etc., are transitory and fleeting, therefore, Arjuna, ignore them.(14)


कौन्तेय = हे कुन्तीपुत्र ; शीतोष्णसुखदु:खदा: = दु:खको देने वाले ; मात्रास्पर्शा: = विषयोंके संयोग ; तान् = उनको (तूं) ; तु = तो ; आगमापायिन: = क्षणभग्डुंर (और) ; अनित्या: = अनित्य हैं (इसलिये) ; भारत = हे भरतवंशी अर्जुन ; तितिक्षस्व = सहन कर ;



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
महाभारत के प्रमुख पात्र
टूलबॉक्स