गीता 2:25

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-25 / Gita Chapter-2 Verse-25

प्रसंग-


उपर्युक्त श्लोकों में भगवान् ने आत्मा को अजन्मा और अविनाशी बतलाकर उसके लिये शोक करना अनुचित सिद्ध किया। अब दो श्लोकों द्वारा आत्मा को औपचारिक रूप से जन्मने-मरने वाला मानने पर भी उसके लिये शोक करना अनुचित है, ऐसा सिद्ध करते हैं-


अव्यक्तोऽयमचिन्त्योऽयमविकार्योऽयमुच्यते ।
तस्मादेवं विदित्वैनं नानुशोचितुमर्हसि ।।25।।




यह आत्मा अव्यक्त है, यह आत्मा अचिन्त्य है और यह आत्मा विकार रहित कहा जाता है । इससे हे अर्जुन ! इस आत्मा को उपर्युक्त प्रकार से जानकर तू शोक करने के योग्य नहीं है अर्थात् तुझे शोक करना उचित नहीं है ।।25।।


This soul is unmanifest, it is unthinkable, and it is spoken of as immutable. Therefore, knowing this as such, you should not grieve.(25)


अयम् = यह आत्मा ; अव्यक्त: = इन्द्रियोंका अविषय (और) ; अयम् = यह आत्मा ; अचिन्त्य: = अर्थात् मनका अविषय (और) ; अयम् = यह आत्मा ; अविकार्य: = अर्थात् न बदलनेवाला ; उच्यते = कहा जाता है ; तस्मात् = इससे (हे अर्जुन) ; एनम् = इस आत्माको ; एवम् = ऐसा ; विदित्वा = जानकर ; (त्वम्) = तूं ; अनुशोचितुम् = शोक करनेको ; न अर्हसि = योग्य नहीं है अर्थात् तुझे शोक करना उचित नहीं है ;



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
रसखान सम्बंधित लेख
टूलबॉक्स