गीता 2:46

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-46 / Gita Chapter-2 Verse-46

प्रसंग-


इस प्रकार समबुद्धि रूप कर्मयोग का और उसके फलका महत्व बतलाकर अब दो श्लोकों में भगवान् कर्मयोग का स्वरूप बतलाते हुए अर्जुन को कर्मयोग में स्थित होकर कर्म करने के लिये कहते हैं-


यावानर्थ उदपाने सर्वत: सम्प्लुतोदके ।
तावान् सर्वेषु वेदेषु ब्राह्राणस्य विजानत: ।।46।।




सब ओर से परिपूर्ण जलाशय के प्राप्त हो जाने पर छोटे जलाशय में मनुष्य का जितना प्रयोजन रहता है, ब्रह्मा को तत्व से जानने वाले ब्राह्राण का समस्त वेदों में उतना ही प्रयोजन रह जाता है ।।46।।


A brahma, who has obtained enlightenment , has the same use for all the Vedas as one who stands at the brink of a sheet of water overflowing on all sides has for a small reservoir of water.(46)


सर्वत: = सब ओरसे ; संप्लुतोदके = परिपूर्ण जलाशयके ; (प्राप्ते सति) = प्राप्त होनेपर ; उदपाने = छोटे जलाशयमें ; ब्राह्रणस्य = ब्राह्रणका (भी) ; सर्वेषु = सब ; यावान् = जितना ; अर्थ: = प्रयोजन ; (अस्ति) = रहता है ; विजानत: = अच्छी प्रकार ब्रह्रको जाननेवाले ; वेदेषु = वेदोंमें ; तावान् = उतना ही प्रयोजन रहता है|



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स