गीता 2:72

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-2 श्लोक-72 / Gita Chapter-2 Verse-72


एषा ब्राह्री स्थिति: पार्थ नैनां प्राप्य विमुह्राति ।
स्थित्वास्यामन्तकालेऽपि ब्रह्रानिर्वाणमृच्छति ।।72।।




हे अर्जुन ! यह ब्रह्मा को प्राप्त पुरूष की स्थिति है, इसको प्राप्त होकर योगी कभी मोहित नहीं होता और अन्त काल में भी इस ब्राह्री स्थिति में स्थित होकर ब्रह्रानन्द को प्राप्त हो जाता है ।।72।।


Arjuna, such is the state of the God-realized soul; having reached this state, he overcomes delusion. And established in this state, even at the last moment. he attains Brahmic Bliss. (72)


पार्थ = हे अर्जुन ; एषा = यह ; ब्राह्मी = ब्रह्मको प्राप्त हुए पुरूषकी ; स्थिति: = स्थिति है ; इनाम् = इसको ; प्राप्य = प्राप्त होकर ; न विमुह्मति = मोहित नहीं होता है (और) ; अन्तकाले = अन्तकालमें ; अपि = भी ; अस्याम् = इस निष्ठामें ; स्थित्वा = स्थित होकर ; ब्रह्मनिर्वाणम् = ब्रह्मानन्दको ; ऋच्छति = प्राप्त हो जाता है



अध्याय दो श्लोक संख्या
Verses- Chapter-2

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 , 43, 44 | 45 | 46 | 47 | 48 | 49 | 50 | 51 | 52 | 53 | 54 | 55 | 56 | 57 | 58 | 59 | 60 | 61 | 62 | 63 | 64 | 65 | 66 | 67 | 68 | 69 | 70 | 71 | 72

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
महाभारत के प्रमुख पात्र
टूलबॉक्स