गीता 3:22

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-3 श्लोक-22 / Gita Chapter-3 Verse-22

न मे पार्थास्ति कर्तव्यं त्रिषु लोकुषु किंचन ।
नानवाप्तमवाप्तव्यं वर्त एव च कर्मणि ।।22।।



हे अर्जुन ! मुझे इन तीनों लोकों में न तो कुछ कर्तव्य है और न कोई भी प्राप्त करने योग्य वस्तु अप्राप्त है, तो भी मैं कर्म में ही बरतता हूँ ।।22।।

Arjuna, there is no work prescribed for me within all the three planetary systems. Nor am I in want of anything, nor have I need to obtain anything- and yet I am engaged in work.(22)


पार्थ = हे अर्जुन (यद्यपि) ; मे = मुझे ; त्रिषु = तीनों ; लोकेषु = लोकोंमें ; किंचन = कुछ भी ; कर्तव्यम् = कर्तव्य ; न = नहीं ; अस्ति = है ; च = तथा ; अवाप्तव्यम् = प्राप्त होने योग्य वस्तु ; अनावाप्तम् = अप्राप्त ; न = नहीं है (तो भी मैं) ; कर्मणि = कर्ममें ; एव = ही ; वर्ते = बर्तता हूं ;



अध्याय तीन श्लोक संख्या
Verses- Chapter-3

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14, 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स