गीता 3:9

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-3 श्लोक-9 / Gita Chapter-3 Verse-9

प्रसंग-


पूर्व श्लोक में भगवान् ने यह बात कही कि यज्ञ के निमित्त कर्म करने वाला मनुष्य कर्मों से नहीं बँधता; इसलिये यहाँ यह जिज्ञासा होती है कि यज्ञ किस को कहते हैं , उसे क्यों करना चाहिये और उसके लिये कर्म करने वाला मनुष्य कैसे नहीं बँधता । अतएव इन बातों को समझाने के लिये भगवान् ब्रह्माजी के वचनों का प्रमाण देकर कहते हैं-


यज्ञार्थात्कर्मणोऽन्यत्र लोकोऽयं कर्मबन्धन: ।
तदर्थं कर्म कौन्तेय मुक्तसंग्ङ: समाचर ।।9।।



यज्ञ के निमित्त किये जाने वाले कर्मों से अतिरिक्त दूसरे कर्मों में लगा हुआ ही यह मनुष्य समुदाय कर्मों से बँधता है । इसलिये हे अर्जुन ! तू आसक्ति से रहित होकर उस यज्ञ के निमित्त् ही भलीभाँति कर्तव्य कर्म कर ।।9।।

Man is bound by his own action except when it is performed for the sake of sacrifice. Therefore, Arjuna, do you efficiently perform your duty, free from attachment; for the sake of sacrifice alone. (9)


यज्ञार्थात् = यज्ञ अर्थात् विष्णुके निमित्त किये हुए ; अयम् = यह ; लोक: = मनुष्य ; कर्मबन्धन: = कर्मोद्वारा बंधता है (इसलिये) ; कौन्तेय = हे अर्जुन ; कर्मण: = कर्मके सिवाय ; अन्यत्र = अन्य कर्ममें (लगा हुआ ही) ; मुक्तसग्ड: = आसक्तिसे रहित हुआ; तदर्थम् = उस परमेश्र्वरके निमित्त ; कर्म = कर्मका ; समाचर = भली प्रकार आचरण कर ;



अध्याय तीन श्लोक संख्या
Verses- Chapter-3

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14, 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स