गीता 4:12

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-4 श्लोक-12 / Gita Chapter-4 Verse-12

प्रसंग-


नवें श्लोक में भगवान् के दिव्य जन्म और कर्मों को तत्व से जानने का फल भगवान् की प्राप्ति बतलाया गया । उसके पूर्व भगवान् के जन्म की दिव्यता का विषय तो भलीभाँति समझाया गया, किंतु भगवान् के कर्मों की दिव्यता का विषय स्पष्ट नहीं हुआ; इसलिये अब भगवान् दो श्लोकों में अपने सृष्टि-रचनादि कर्मों में कर्तापन, विषमता और स्पृहा का अभाव दिखलाकर उन कर्मों की दिव्यता का विषय समझाते हैं-


कांक्षन्त: कर्मणां सिद्धिं यजन्त इह देवता: ।
क्षिप्रं हि मानुषे लोके सिद्धिर्भवति कर्मजा ।।12।।




इस मनुष्य लोक में कर्मों के फल को चाहने वाले लोग देवताओं का पूजन किया करते हैं; क्योंकि उनको कर्मों से उत्पन्न होने वाली सिद्धि शीघ्र मिल जाती है ।।12।।


In this world of human beings; men seeking the fruition of their activities worship the gods; for success born of actions follow quickly.(12)


इह = इस; मानुषे = मनुष्य; लोके = लोंक में; कर्मणाम् = कर्मों के; सिद्विम् = फल को; काक्ष्ड़न्त: = चाहते हुए; देवता: = देवताओं को; यजन्ते = पूजते हैं (और उनके); कर्मजा = कर्मों से उत्पन्न हुई; सिद्वि; = सिद्धि (भी) क्षिप्रम् = शीघ्र; हि = ही; भवति = होती है



अध्याय चार श्लोक संख्या
Verses- Chapter-4

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स