गीता 4:13

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-4 श्लोक-13 / Gita Chapter-4 Verse-13

चातुर्वर्ण्यं मया सृष्टं गुणकर्मविभागश: ।
तस्य कर्तारमपि मां विद्ध्यकर्तारमव्ययम् ।।13।।




ब्राह्राण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र- इन चार वर्णों का समूह, गुण और कर्मों के विभागपूर्वक मेरे द्वारा रचा गया है । इस प्रकार उस सृष्टि रचनादि कर्म का कर्ता होने पर भी मुझ अविनाशी परमेश्वर को तू वास्तव में अकर्ता ही जान ।।13।।


The four orders of society the Brahmana, the Ksatriya, the Vaisya and the Sudra were created by Me classifying them according to the mode to Prakrti predominant in each and apportioning corresponding duties to them; though the author of this creation, know Me, the immortal Lord, to be a non-doer. (13)


गुर्णकर्मविभागश: = गुण और कर्मों के विभाग से; चातुर्वर्ण्यम् = ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र; मया = मेरे द्वारा; सृष्टम = रचे गये हैं; तस्य = उनके; कर्तारम् = कर्ताको; अपि = भी; माम् = मुझ; अव्ययम् = अविनाशी परमेश्चर को(तूं ); अकर्तारम् = अकर्ता (ही) विद्वि = जान



अध्याय चार श्लोक संख्या
Verses- Chapter-4

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स