गीता 4:41

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-4 श्लोक-41 / Gita Chapter-4 Verse-41

प्रसंग-


इस प्रकार कर्मयोगी की प्रशंसा करके अब अर्जुन को कर्मयोग में स्थित होकर युद्ध करने की आज्ञा देकर भगवान् इस अध्याय का उपसंहार करते हैं-


योगसंन्यस्तकर्माणं ज्ञानसंछिन्नसंशयम् ।
आत्मवन्तं न कर्माणि निबध्नन्ति धनंजय ।।41।।




हे धनंजय ! जिसने कर्मयोग की विधि से समस्त कर्मों का परमात्मा में अर्पण कर दिया है और जिसने विवेक द्वारा समस्त संशयों का नाश कर दिया है, ऐसे वश में किये हुए अन्त:करण वाले पुरुष को कर्म नहीं बाँधते ।।41।।


Arjuna, actions do not bind him who has dedicated all his actions to God according to the spirit of Karmayoga, whose doubts have been torn to shreds by wisdom, and who is self-possessed.(41)


धनंजय = हे धनजय, योग-संन्यस्त-कर्माणम् = समत्व बुद्धिरूप योग द्वारा भगवत्-अर्पण कर दिये हैं संपूर्ण कर्म जिसने, कर्माणि = कर्म, न= नही, निबन्धन्ति = बान्धते हैं ज्ञान-संछिन्न-संशयम = ज्ञान द्वारा नष्ट हो गये है सब संशय जिसके , आत्मवन्तम् = परायण पुरुष को



अध्याय चार श्लोक संख्या
Verses- Chapter-4

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स