गीता 6:33

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-6 श्लोक-33 / Gita Chapter-6 Verse-33

प्रसंग-


समत्वयोग में मन की चंचलता को बाधक बतलाकर अब अर्जुन मन के निग्रह को अत्यन्त कठिन बतलाते हैं-


योऽयं योगस्त्वया प्रोक्त:
साम्येन मधुसूदन ।
एतस्याहं न पश्यामि
चञ्चलत्वात्स्थितिं स्थिराम् ।।33।।



अर्जुन बोले-


हे मधुसूदन ! जो यह योग आपने समभाव से कहा है, मन के चंचल होने से मैं इसकी नित्य स्थिति को नहीं देखता हूँ ।।33।।

Arjuna said:


Krishna, owing to restlessness of mind I do not perceive the stability of this yoga in the form of equability, which you have just spoken of. (33)


मधुसूदन = हे मधुसूदन; य: = जो; अयम् = यह; योग: =ध्यान योग; त्वया =आपने; साम्येन = समत्वभाव से; प्रोक्त: =कहा है; एतय =इसकी; अहम् = मैं(मनके); चज्जलत्वात् = चज्जल होने से; स्थिराम् = बहुत काल तक ठहरने वाली; स्थितिम् = स्थिति को; न = नहीं; पश्यामि = देखता हूं।



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स