गीता 6:37

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-6 श्लोक-37 / Gita Chapter-6 Verse-37

अयति: श्रद्धयोपेतो योगाच्चलितमानस: ।
अप्राप्य योगसंसिद्धिं कां गतिं कृष्ण गच्छति ।।37।।



अर्जुन बोले-


हे श्रीकृष्ण ! जो योग में श्रद्धा रखने वाला है, किंतु संयमी नहीं है, इस कारण जिसका मन अन्तकाल में योग से विचलित हो गया है, ऐसा साधक योग की सिद्धि को अर्थात् भगवत्साक्षात्कार को न प्राप्त होकर किस गति को प्राप्त होता है ? ।।37।।

Arjuna said:


Krishna, what becomes of the soul who, though endowed with faith, has not been able to subdue his passion , and whose mind is therefore diverted from Yoga (at the time of death), and who thus fails to reach perfection in yoga (God-realization)? (37)


कृष्ण = हे कृष्ण ; योगात् = योग से ; चलितमानस: = यलायमान हो गया है मन जिसका ऐसा ; योगसंसिद्धिम् = योग की सिद्धि को अर्थात् भगवत् साक्षात्कारता को ; अयति: = शिथिल यत्नवाला ; श्रद्धया उपेत: = श्रद्धायुक्त पुरुष ; अप्राप्त = न प्राप्त होकर ; काम् = किस ; गतिम् = गति को ; गच्छति = प्राप्त होता है ;



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47


निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स