गीता 6:45

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
पंक्ति 9: पंक्ति 9:
 
'''प्रसंग-'''
 
'''प्रसंग-'''
 
----
 
----
योगभ्रष्ट की गति का विषय समाप्त करके, अब भगवान् योगी की महिमा कहते हुए अर्जुन को योगी बनने के लिये आज्ञा देते हैं-
+
योगभ्रष्ट की गति का विषय समाप्त करके, अब भगवान् योगी की महिमा कहते हुए [[अर्जुन]] को योगी बनने के लिये आज्ञा देते हैं-
 
----
 
----
 
<div align="center">
 
<div align="center">
पंक्ति 23: पंक्ति 23:
 
| style="width:50%; font-size:120%;padding:10px;" valign="top"|
 
| style="width:50%; font-size:120%;padding:10px;" valign="top"|
  
परन्तु प्रयत्नपूर्वक अभ्यास करने वाले योगी तो पिछले अनेक जन्मों के संस्कार बल से इसी जन्म में संसिद्ध होकर सम्पूर्ण पापों से रहित हो फिर तत्काल ही परमगति को प्राप्त हो जाता है  
+
परन्तु प्रयत्नपूर्वक अभ्यास करने वाले योगी तो पिछले अनेक जन्मों के संस्कार बल से इसी जन्म में सिद्ध होकर सम्पूर्ण पापों से रहित हो फिर तत्काल ही परमगति को प्राप्त हो जाता है  
  
 
| style="width:50%; font-size:120%;padding:10px;" valign="top"|
 
| style="width:50%; font-size:120%;padding:10px;" valign="top"|
पंक्ति 58: पंक्ति 58:
 
</table>
 
</table>
 
[[category:गीता]]
 
[[category:गीता]]
 +
__INDEX__

11:18, 17 नवम्बर 2009 का संस्करण


गीता अध्याय-6 श्लोक-45 / Gita Chapter-6 Verse-45

प्रसंग-


योगभ्रष्ट की गति का विषय समाप्त करके, अब भगवान् योगी की महिमा कहते हुए अर्जुन को योगी बनने के लिये आज्ञा देते हैं-


प्रयत्नाद्यतमानस्तु योगी संशुद्धकिल्बिष: ।
अनेकजन्मसंसिद्ध स्ततो याति परां गतिम् ।।45।।



परन्तु प्रयत्नपूर्वक अभ्यास करने वाले योगी तो पिछले अनेक जन्मों के संस्कार बल से इसी जन्म में सिद्ध होकर सम्पूर्ण पापों से रहित हो फिर तत्काल ही परमगति को प्राप्त हो जाता है

The yogi, however, who diligently takes up the practice attains perfection in this very life with the help of latencies of many births, and being thoroughly purged of sin, forthwith reaches the supreme state..(45)


अनेकजन्मसंसिद्ध: = अनेक जन्मों से अन्त:करण की शुद्धिरूप सिद्धि को प्राप्त हुआ ; तु = और ; प्रयत्नात् = अति प्रयत्न से ; यतमान: = अभ्यास करने वाला ; योगी = योगी ; संशुद्धकिल्बिष: = संपूर्ण पापों से अच्छी प्रकार शुद्ध होकर ; तत: = उस साधन के प्रभाव से ; पराम् = परम ; गतिम् = गति को ; याति = प्राप्त होता है अर्थात् परमात्मा को प्राप्त होता है ;



अध्याय छ: श्लोक संख्या
Verses- Chapter-6

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34 | 35 | 36 | 37 | 38 | 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स