गीता 7:10

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-7 श्लोक-10 / Gita Chapter-7 Verse-10


बीजं मां सर्वभूतानां विद्धि पार्थ सनातनम् ।
बुद्धिर्बुद्धिमतामस्मि तेजस्तेजस्विनामहम् ।।10।।



हे अर्जुन ! तू सम्पूर्ण भूतों का सनातन बीज मुझ को ही जान । मैं बुद्धिमानों की बुद्धि और तेजस्वियों का तेज हूँ ।।10।।

Arjuna, know me the eternal seed of all beings. I am the intelligence of the intelligent; the glory of the glorious am I.(10)


पार्थ = हे अर्जुन; सर्वभूतानाम् =संपूर्ण भूतों का; सनातनम् = सनातन; बीजम् = कारण; माम् =मेरे को ही; विद्वि = जान; अहम् =मैं; बुद्विमताम् = बुद्विमानों की; बुद्वि: = बुद्वि; तेजस्विनाम् = तेजस्वियों का; तेज: =तेज; अस्मि = हूं



अध्याय सात श्लोक संख्या
Verses- Chapter-7

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स