गीता 7:18

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
पंक्ति 41: पंक्ति 41:
 
</td>
 
</td>
 
</tr>
 
</tr>
</table>
+
<tr>
 +
<td>
 
<br />
 
<br />
 
<div align="center" style="font-size:120%;">'''[[गीता 7:17|<= पीछे Prev]] | [[गीता 7:19|आगे Next =>]]'''</div>  
 
<div align="center" style="font-size:120%;">'''[[गीता 7:17|<= पीछे Prev]] | [[गीता 7:19|आगे Next =>]]'''</div>  
 +
</td>
 +
</tr>
 +
<tr>
 +
<td>
 
<br />
 
<br />
 
{{गीता अध्याय 7}}
 
{{गीता अध्याय 7}}
 +
</td>
 +
</tr>
 +
<tr>
 +
<td>
 
{{गीता अध्याय}}
 
{{गीता अध्याय}}
 +
</td>
 +
</tr>
 +
</table>
 
[[category:गीता]]
 
[[category:गीता]]

06:29, 24 अक्टूबर 2009 का संस्करण


गीता अध्याय-7 श्लोक-18 / Gita Chapter-7 Verse-18

प्रसंग-


अब उस ज्ञानी भक्त की दुर्लभता बतलाने के लिये भगवान् कहते हैं-


उदारा: सर्व एवैते
ज्ञानी त्वात्मैव मे मतम् ।
आस्थित: स हि युक्तात्मा
मामेवानुत्तमां गतिम् ।।18।।



ये सभी उदार हैं, परंतु ज्ञानी तो साक्षात् मेरा स्वरूप ही है, ऐसा मेरा मत है, क्योंकि वह मद्गत मन-बुद्धिवाला ज्ञानी भक्त अति उत्तम गतिस्वरूप मुझ में ही अच्छी प्रकार स्थित है ।।18।।

Indeed all these are noble, but the man of wisdom is my very self: such is my view. For such a devotee, who has his mind and intellect merged in me, is firmly established in me alone, the highest goal. (18)


एते = यह ; सर्वे = सब ; एव = ही ; उदारा: = उदार हैं अर्थात् श्रद्धासहित मेरे भजन के लिये समय लगाने वाले होने से उत्तम हैं ; तु = परन्तु ; ज्ञानी = ज्ञानी (तो) (साक्षात्) ; आत्मा = मेरा स्वरूप ; एव = ही है (ऐसा) ; मे = मेरा ; मतम् = मत है ; हि = क्योंकि ; स: = वह ; युक्तात्मा = स्थिर-बुद्धि (ज्ञानी भक्त) ; अनुत्तमाम् = अति उत्तम ; गतिम् = गतिस्वरूप ; माम् = मेरे में ; एव = ही ; आस्थित: = अच्छी प्रकार स्थित है ;



अध्याय सात श्लोक संख्या
Verses- Chapter-7

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स