गीता 7:20

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-7 श्लोक-20 / Gita Chapter-7 Verse-20

प्रसंग-


अब दो श्लोकों में देवोपासकों को उनकी उपासना का कैसे और क्या फल मिलता है, इसका वर्णन करते हैं-


कामैस्तैस्तैर्हृतज्ञाना: प्रपद्यन्तेऽन्यदेवता: ।
तं तं नियममास्थाय प्रकृत्या नियता: स्वया ।।20।।



उन-उन भोगों की कामना द्वारा जिनका ज्ञान हरा जा चुका है , वे लोग अपने स्वभाव से प्रेरित होकर उस-उस नियम को धारण करके अन्य देवताओं को भजते हैं अर्थात् पूजते हैं ।।20।।

Those whose wisdom has been carried away by various desires, being prompted by their own nature, worship other deities adopting rules relating to each.(20)


स्वया = अपने ; प्रकृत्या = स्वभाव से ; नियता: = प्रेरे हुए (तथा) ; तै: = उन ; तै: = उन ; कामै: = भोगों की कामना द्वारा ; हृतज्ञाना: = ज्ञान से भ्रष्ट हुए ; तम् = उस ; तम् = उस ; नियमम् = नियम को ; आस्थाय = धारण करके ; अन्यदेवता: = अन्य देवताओं को ; प्रपद्यन्ते = भजते हैं अर्थात् पूजते हैं



अध्याय सात श्लोक संख्या
Verses- Chapter-7

1 | 2 | 3 | 4, 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29, 30

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स