गीता 8:17

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-8 श्लोक-17 / Gita Chapter-8 Verse-17

प्रसंग-


ब्रह्मलोक पर्यन्त सब लोकों को पुनरावर्ती बतलाया, परंतु वे पुनरावर्ती कैसे हैं- इस जिज्ञासा पर अब भगवान् ब्रह्मा के दिन-रात की अवधि का वर्णन करके सब लोकों की अनित्यता सिद्ध करते हैं-


सहस्त्रयुगपर्यन्तमहर्यद्ब्रह्राणो विदु: ।
रात्रिं युगसहस्त्रान्तां तेऽहोरात्रविदो जना: ।।17।।



ब्रह्मा का जो एक दिन है, उसको एक हज़ार चतुर्युगी तक की अवधि वाला और रात्रि को भी एक हज़ार चतुर्युगी तक की अवधि वाली जो पुरुष तत्त्व से जानते हैं, वे योगीजन काल के तत्व को जानने वाले हैं ।।17।।

By human calculation, a thousand ages taken together is the duration of Brahma's one day. And such also is the duration of his night.(17)


ब्रह्मण: = ब्रह्मा का ; यत् = जो ; अह: = एक दिन है (उसको) ; सहस्त्रयुगपर्यन्तम् = हज़ार चौकडी युगतक अवधिवाला (और) ; जना: = योगीजन ; रात्रिम् = रात्रि को (भी) ; युगसहस्त्रान्ताम् = हज़ार चौकडी युगतक अवधिवाली ; (ये) = जो पुरुष ; विदु: = तत्त्व से जानते हैं ; ते = वे ; अहोरात्रविद: = काल के तत्त्व को जानने वाले हैं



अध्याय आठ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-8

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स