गीता 8:4

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-8 श्लोक-4 / Gita Chapter-8 Verse-4

प्रसंग-


अब भगवान् अधिभूत, अधिदैव और अधियज्ञ विषयक प्रश्नों का उत्तर क्रमश: देते हैं-


अधिभूतं क्षरो भाव: पुरुषश्चाधिदैवतम् ।
अधियज्ञोऽहमेवात्र देहे देहभृतां वर ।।4।।



उत्पत्ति-विनाश धर्म वाले सब पदार्थ अधिभूत हैं, हिरण्यमय पुरुष अधिदैव है और हे देहधारियों में श्रेष्ठ अर्जुन ! इस शरीर में मैं वासुदेव ही अन्तर्यामी रूप से अधियज्ञ हूँ ।।4।।

All perishable objects are Adhibhuta; the shining purusa (Brahma) is Adhidaiva; and in this body I myself, dwellings as the inner witness, am adhiyajna, O Arjuna! (4)


क्षर:भाव: = उत्पत्ति विनाश धर्मवाले सब पदार्थ ; पुरुष: = हिरण्यमय पुरुष ; अधिदैवतम् = अधिदैव है (और) ; देहभृताम् वर = हे देहधारियों में श्रेष्ठ अर्जुन ; अधिभूतम् = अधिभूत हैं ; च = और ; अत्र = इस ; देहे = शरीर में ; अहम् = मैं वासुदेव ; एव = ही (विष्णुरूप से) ; अधियज्ञ: = अधियज्ञ हूं



अध्याय आठ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-8

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स