गीता 8:6

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
Ashwani Bhatia (वार्ता | योगदान)ने किया हुआ 12:50, 21 मार्च 2010का अवतरण
(अंतर) ← पुराना संस्करण | वर्तमान संशोधन (अंतर) | नया संशोधन → (अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-8 श्लोक-6 / Gita Chapter-8 Verse-6

प्रसंग-


यहाँ यह बात कही गयी है कि भगवान् का स्मरण करते हुए मरने वाला भगवान् को ही प्राप्त होता है । इस पर यह जिज्ञासा होती है कि केवल भगवान् के स्मरण के संबंध में ही यह विशेष नियम हैं या सभी के संबंध में है ? इस पर कहते हैं –


यं यं वापि स्मरन्भावं त्यजत्यन्ते कलेवरम् ।
तं तमेवैति कौन्तेय सदा तद्भावभावित: ।।6।।



हे कुन्ती पुत्र अर्जुन ! यह मनुष्य अन्तकाल में जिस-जिस भी भाव को स्मरण करता हुआ शरीर को त्याग करता है, वह उस-उस को ही प्राप्त होता हैं; क्योंकि वह सदा उसी भाव से भावित रहा है ।।6।।

Arjuna,thinking of whatever entity one leaves the body at the time of death, that and that alone one attains, being over absorbed in its thought. (6)


कौन्तेय = हे कुन्तीपुत्र अर्जुन (यह मनुष्य) ; अन्ते = अन्तकाल में ; यम् = जिस ; यम् = जिस ; वा अपि = भी ; भावम् = भावको ; स्मरन् = स्मरण करता हुआ ; कलेवरम् = शरीर को ; त्याजति = त्यागता है; तम् = उस ; तम् = उसको ; एव = ही ; इति = प्राप्त होता है (परन्तु) ; सदा = सदा ; तभ्दावभावित: = उस ही भाव को चिन्तन करता हुआ



अध्याय आठ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-8

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स