गीता 8:9

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-8 श्लोक-9 / Gita Chapter-8 Verse-9

प्रसंग-


दिव्य पुरुष की प्राप्ति बतलाकर अब उसका स्वरूप बतलाते हैं-


कविं पुराणमनुशासितार
मणोरणीयांसमनुस्मरेद्य: ।
सर्वस्य धातारमचिन्त्यरूप
मादित्यवर्णं तमस: परस्तात् ।।9।।



जो पुरुष सर्वज्ञ, अनादि, सबके नियन्ता, सूक्ष्म से भी अति सूक्ष्म, सबके धारण-पोषण करने वाले अचिन्त्य स्वरूप, सूर्य के सदृश नित्य चेतन प्रकाश रूप और अविधा से अति परे, शुद्ध सच्चिदानन्दघन परमेश्वर का स्मरण करता है ।।9।।

He who contemplates on the all- wise, ageless beings, the ruler of all, subtler than the subtle, the universal sustainer, possessing a form beyond human conception, refulgent like the sun and far beyond the darkness of ignorance. (9)


य: = जो पुरुष ; कविम् = सर्वज्ञ ; पुराणम् = अनादि ; अनुशासितारम् = सबके नियन्ता ; अणो: अणीयांसम् = सूक्ष्म से भी अति सूक्ष्म ; सर्वस्य = सबके ; परस्तात् = अतिपरे शुद्ध सच्चिदानन्दघन परमात्मा को ; धातारम् = धारण-पोषण करने वाले ; अचिन्त्यरूपम् = अचिन्त्य स्वरूप ; आदित्यवर्णम् = सूर्य के सद्य्श नित्य चेतन प्रकाशरूप ; तमस: = अविद्या से ; अनुस्मरेत् = स्मरण करता है



अध्याय आठ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-8

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12, 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
गीता अध्याय-Gita Chapters
टूलबॉक्स