गीता 9:27

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-9 श्लोक-27 / Gita Chapter-9 Verse-27

प्रसंग-


यदि ऐसी ही बात है तो मुझे क्या करना चाहिए, इस जिज्ञासा पर भगवान् अर्जुन को उसका कर्तव्य बतलाते हैं-


यत्करोषि यदश्नासि यज्जुहोषि ददासि यत् ।
यत्तपस्यसि कौन्तेय तत्कुरुष्व मदर्पणम् ।।27।।



हे अर्जुन ! तू जो कर्म करता है, जो खाता है, जो हवन करता है, जो दान देता है और जो तप करता है, वह सब मेरे अर्पण कर ।।27।।

Arjuna, whatever you do, whatever you eat, whatever you offer as oblation to the sacred fire, whatever you bestow as a gift, whatever you do by way of penance, offer it all to me. (27)


कौन्तेय = हे अर्जुन(तूं); यत् = जो(कुछ); अश्रासि = खाता है; जुहोषि = हवन करता है; ददासि = दान देता है; यत् = जो (कुछ); तपस्यसि = स्वधर्माचरणरूप तप करता है; तत् = वह(सब); मदर्पणम् = मेरे अर्पण; कुरुष्व = कर ;



अध्याय नौ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-9

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स