गीता 9:7

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

गीता अध्याय-9 श्लोक-7 / Gita Chapter-9 Verse-7

प्रसंग-


विज्ञान सहित ज्ञान का वर्णन करते हुए भगवान् ने यहाँ तक प्रभाव सहित अपने निराकार स्वरूप का तत्व समझाने के लिये उसकी व्यापकता, असंगता और निर्विकारता का प्रतिपादन किया । अब अपने भूतभावन स्वरूप का स्पष्टीकरण करते हुए सृष्टरचनादि कर्मों का तत्व समझाने के लिये पहले दो श्लोकों द्वारा कल्पों में सब भूतों का प्रलय और कल्पों के आदि में उनकी उत्पत्ति का प्रकार बतलाते हैं-


सर्वभूतानि कौन्तेय प्रकृतिं यान्ति मामिकाम् ।
कल्पक्षये पुनस्तानि कल्पादौ विसृजाम्यहम् ।।7।।



हे अर्जुन ! कल्पों के अन्त में सब भूत मेरी प्रकृति को प्राप्त होते हैं अर्थात् प्रकृति में लीन होते हैं और कल्पों के आदि में उनको मैं फिर रचता हूँ ।।7।।

Arjuna, during the final dissolution all beings enter my nature (the prime cause) , and at the beginning of creation, I send them forth again. (7)


कौन्तेय = हे अर्जुन ; कल्पक्षये = कल्पके अन्त में ; सर्वभूतानि = सब भूत ; मामिकाम् = मेरी ; प्रकृतिम् = प्रकृति को ; यान्ति = प्राप्त होते हैं अर्थात् प्रकृति में लय होते हैं ; कल्पादौ = कल्पके आदि में ; तानि = उनको ; अहम् = मैं ; पुन: = मैं ; पुन: = फिर ; विसृजामि = रचता हूं ;



अध्याय नौ श्लोक संख्या
Verses- Chapter-9

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17 | 18 | 19 | 20 | 21 | 22 | 23 | 24 | 25 | 26 | 27 | 28 | 29 | 30 | 31 | 32 | 33 | 34

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स