ग्राउस

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

एफ़. एस. ग्राउस / F.S. Growse

एफ़. एस. ग्राउस
F. S. Growse
1871-1877, ज़िलाधीश मथुरा

ग्राउस का भारत-प्रेम

ग्राउस साहब की भारतीय संस्कृति, पुरातत्व और साहित्य में गहन रुचि थी। जहाँ कहीं भी आप राजकीय सेवा में रहे, आपका यह भारत-प्रेम वहाँ के प्रशासनिक कार्यो के बीच देखा जा सकता है। ग्राउस की राजकीय सेवा का अधिकांश समय तत्कालीन आगरा प्रांत के मथुरा, मैनपुरी, और फतेहगढ़ में बीता। सन् 1878 ई. में से 1879 के बीच एशियाटिक सोसायटी के जनरल और 'इण्डियन ऐंटिक्वरी' में इनके मथुरा पर लिखे लेखों का प्रकाशन हुआ। ग्राउस साहब भारत को अंग्रेज शासकों जैसी नजर से कभी नहीं देखते थे। वे इस देश की भाषा, कला, संस्कृति आदि के प्रति पूर्णत: समर्पित व्यक्तित्व थे। भाषा के संबंध में भी बड़ी स्पष्ट और सुलझी हुई दृष्टि उनके पास थी। ग्राउस ने सन् 1872 में निकटस्थ पालिखेड़ा नामक स्थान से यहाँ की महत्त्वपूर्ण प्रतिमा आसवपायी कुबेर को प्राप्त किया था। सन् 1888 से 91 तक डाक्टर फ्यूहरर ने लगातार कंकाली टीले की खुदाई कराई। पहले ही वर्ष में 737 से अधिक मूर्तियां मिलीं जो लखनऊ के राज्य संग्रहालय में भेज दी गयीं। सन् 1836 के बाद सन् 1909 तक फिर मथुरा की मूर्तियों को एकत्रित करने का कोई उल्लेखीनय प्रयास नहीं हुआ।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
अन्य भाषाएं
ब्रज के वन
टूलबॉक्स