चित्र:Raskhan-3.jpg

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
सम्पूर्ण रिज़ोल्यूशन(1,200 × 902 चित्र, फ़ाइल का आकार: 298 KB, माइम प्रकार: image/jpeg)


चित्र जानकारी
विवरण रसखान की समाधि महावन, मथुरा
दिनांक वर्ष - 2009
प्रयोग अनुमति © brajdiscovery.org
अन्य विवरण हिन्दी साहित्य में कृष्ण भक्त तथा रीतिकालीन कवियों में रसखान का महत्त्वपूर्ण स्थान है। 'रसखान' को रस की ख़ान कहा जाता है। इनके काव्य में भक्ति, श्रृगांर रस दोनों प्रधानता से मिलते हैं। रसखान कृष्ण भक्त हैं और प्रभु के सगुण और निर्गुण निराकार रूप के प्रति श्रद्धालु हैं। रसखान के सगुण कृष्ण लीलाएं करते हैं।

फ़ाइल का इतिहास

फ़ाईल का पुराना अवतरण देखनेके लिये दिनांक/समय पर क्लिक करें।

दिनांक/समयथम्ब प्रारूपआकारसदस्यटिप्पणी
सद्य13:01, 20 सितम्बर 200913:01, 20 सितम्बर 2009 के समय के संस्करण का थम्ब प्रारूप।1,200×902 (298 KB)जन्मेजय (वार्ता | योगदान)

निम्नोक्त 3 पन्नों में इस फ़ाइल के हवाले हैं:

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स