चौधरी दिगम्बर सिंह

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(संस्करणों में अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 20: पंक्ति 20:
 
|नागरिकता=भारतीय  
 
|नागरिकता=भारतीय  
 
|प्रसिद्धि= सहकारिता आंदोलन के प्रणेता  
 
|प्रसिद्धि= सहकारिता आंदोलन के प्रणेता  
|पार्टी=[[काँग्रेस]], लोकदल
+
|पार्टी=काँग्रेस, लोकदल
 
|पद= सांसद (4 बार- एक बार जलेसर (एटा) से 3 बार मथुरा से)
 
|पद= सांसद (4 बार- एक बार जलेसर (एटा) से 3 बार मथुरा से)
 
उत्तर प्रदेश सहकारी बैंक के उपाध्यक्ष  
 
उत्तर प्रदेश सहकारी बैंक के उपाध्यक्ष  
पंक्ति 50: पंक्ति 50:
 
*1945- प्रदेश कांग्रेस कमैटी के सदस्य एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमैटी के सदस्य चुने गये।  
 
*1945- प्रदेश कांग्रेस कमैटी के सदस्य एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमैटी के सदस्य चुने गये।  
 
*1948- 1948 में कांग्रेस से अलग होकर बनी 'कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी' से डिस्ट्रिक्ट बोर्ड (ज़िला परिषद) के अध्यक्ष का चुनाव लड़े। इस चुनाव में सोशलिस्ट पार्टी के सभी उम्मीदवार हार गए। चौधरी साहब भी, कांग्रेस प्रत्याशी हकीम ब्रजलाल वर्मन से ये चुनाव हार गये।  
 
*1948- 1948 में कांग्रेस से अलग होकर बनी 'कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी' से डिस्ट्रिक्ट बोर्ड (ज़िला परिषद) के अध्यक्ष का चुनाव लड़े। इस चुनाव में सोशलिस्ट पार्टी के सभी उम्मीदवार हार गए। चौधरी साहब भी, कांग्रेस प्रत्याशी हकीम ब्रजलाल वर्मन से ये चुनाव हार गये।  
*1951- इसके बाद राम मनोहर लोहिया एवं इनकी निकटता बहुत बढ़ गयी लोहिया जी का कार्यक्रम कुरसण्डा में हुआ। 101 बैलों की जोड़ी के रथ का जूलूस सादाबाद में निकाला गया जो [[मथुरा ज़िला|मथुरा ज़िले]] के इतिहास में तब तक का सबसे बड़ा अनुशासित प्रदर्शन था।  
+
*1951- इसके बाद राम मनोहर लोहिया एवं इनकी निकटता बहुत बढ़ गयी लोहिया जी का कार्यक्रम कुरसण्डा में हुआ। 101 बैलों की जोड़ी के रथ का जूलूस सादाबाद में निकाला गया जो मथुरा ज़िले के इतिहास में तब तक का सबसे बड़ा अनुशासित प्रदर्शन था।  
 
*1952- कुरसण्डा में पंचायत घर बनवाया। श्रमदान से एक ही दिन में छ: कमरों का स्कूल बनवाया।  
 
*1952- कुरसण्डा में पंचायत घर बनवाया। श्रमदान से एक ही दिन में छ: कमरों का स्कूल बनवाया।  
 
*1952- '''जलेसर लोक सभा क्षेत्र से कांग्रेस की टिकट पर चौधरी दिगम्बर सिंह 64 हज़ार से भी अधिक मतों से विजयी हुये।'''  
 
*1952- '''जलेसर लोक सभा क्षेत्र से कांग्रेस की टिकट पर चौधरी दिगम्बर सिंह 64 हज़ार से भी अधिक मतों से विजयी हुये।'''  

14:06, 27 अप्रॅल 2015 के समय का संस्करण

चौधरी दिगम्बर सिंह पूर्व सांसद / Chaudhary Digambar Singh Ex M.P.

चौधरी दिगम्बर सिंह
चौधरी दिगम्बर सिंह.jpg
पूरा नाम चौधरी दिगम्बर सिंह
जन्म 9 जून, 1913
जन्म भूमि ग्राम कुरसण्डा, तहसील सादाबाद
पति/पत्नी सौभाग्यवती देवी एवं चन्द्रकांता चौधरी
संतान सौभाग्यवती देवी से- प्रेम देवी, शान्ति देवी, शीला देवी, विनोद कुमार, सुशीला देवी

चन्द्रकांता चौधरी से- आदित्य चौधरी, चित्रा चौधरी

मृत्यु 10 दिसम्बर, 1995
मृत्यु स्थान मथुरा
स्मारक स्मारक बनवाने और मूर्ति लगवाने के ख़िलाफ़ थे
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि सहकारिता आंदोलन के प्रणेता
पार्टी काँग्रेस, लोकदल
पद सांसद (4 बार- एक बार जलेसर (एटा) से 3 बार मथुरा से)

उत्तर प्रदेश सहकारी बैंक के उपाध्यक्ष

भाषा हिंदी, उर्दू, अंग्रेज़ी
कार्य काल सांसद 1952 (पाँच वर्ष), 1962 (पाँच वर्ष), 1970 (एक वर्ष- उपचुनाव), 1980 (पाँच वर्ष)
जेल यात्रा 1941, 1942
शिक्षा हाईस्कूल
पुरस्कार-उपाधि स्वतंत्रता सेनानी-ताम्रपत्र
विशेष योगदान सहकारिता, भूमि अधिग्रहण अधिनियम संशोधन

चौधरी दिगम्बर सिंह (जन्म: 9 जून, 1913 - मृत्यु: 10 दिसम्बर, 1995) स्वतंत्रता सेनानी थे और चार बार लोकसभा सांसद रहे। इन्होंने सहकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया। किसानों की 'भूमि अधिग्रहण अधिनियम' में संशोधन का सबसे पहला प्रयास इनका ही था। किसानों की बात संसद में कहने के लिए दिगम्बर सिंह प्रसिद्ध थे। राजा महेन्द्र प्रताप, मनीराम बागड़ी और राजा मानसिंह जैसा नेताओं को इन्होंने लोकसभा चुनावों में हराया था। लगभग 25 वर्ष ये 'मथुरा ज़िला सहकारी बैंक' के अध्यक्ष रहे। मथुरा में 'आकाशवाणी' की स्थापना करवाने का श्रेय इन्हें ही जाता है।

संक्षिप्त जीवन तिथि-क्रम

जीवन की कुछ झलकियाँ

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं