दशाश्वमेध तीर्थ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

दशाश्वमेध तीर्थ / Dashashavmedh Tirth

दशास्वमेधमृषिभि: पूजितं सर्वदा पुरा।
तत्र ये स्नान्ति मनुजास्तेषां स्वर्गो न दुर्ल्लभ:।।
यमुना के इस पवित्र घाट पर ब्रह्माजी ने दश अश्वमेध यज्ञ किये थे। यह स्थान देवर्षि नारद, चतु:सन आदि ऋषियों के द्वारा सदा–सर्वदा पूजित है। यहाँ स्नान करने से मनुष्य को भगवद् धाम की प्राप्ति होती है।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं
सुस्वागतम्