दावानल कुण्ड

Nayati
ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज


Logo.jpg पन्ना बनने की प्रक्रिया में है। आप इसको तैयार कर सकते हैं। हिंदी (देवनागरी) टाइप की सुविधा संपादन पन्ने पर ही उसके नीचे उपलब्ध है।

दावानल कुण्ड / Davanal Kund

कालिय नाग दमन के दिन गोप, गोपी एवं कृष्ण-बलराम अपने निवास स्थल छट्टीकरा में रात हो जाने के कारण न जा सके। उन्होंने विष मिश्रित कालियदह से कुछ दूर हटकर पूर्व दिशा में एक स्वच्छ मीठे सरोवर के पास जाकर जलपान किया और वहीं पर रात में विश्राम किया। दुष्ट कंस के अनुचरों ने सुयोग देखकर इस वन के चारों तरफ आग लगा दी। थोड़ी ही देर में भीषण आग सारे वन में प्रज्वलित हो उठी। कृष्ण ने यहाँ भी सबको अपने नेत्र बन्द करने के लिए कहा। नेत्र बन्द करते ही उस भीषण दावानल को सुशीतल जल की भाँति पान कर लिया। जहाँ यह लीला हुई थी उस सरोवर को दावानल कुण्ड कहते हैं।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं