मार्गशीर्ष

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. गीता (10.35)
  2. (अनुशासन, अध्याय 10-, बृ. सं. 104.14-16)
  3. कृत्यकल्पतरु का नैत्य कालिक काण्ड, 432-33; कृत्यरत्नाकर, 471-72

संबंधित लेख

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स