रामशरण दास जौहरी स्वतंत्रता सेनानी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

श्री रामशरण दास जौहरी / Ramsharan Das Jauhari

आत्मज श्री नबल किशोर।

तिलक द्वारा, मथुरा

सन 1930 में 1857 का दिवस आयोजन करने के सिलसिले में 1 वर्ष कड़ी कैद की सजा पायी।

सविनय अवज्ञा आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1932 में 6 मास के कारावास का दण्ड मिला।

असहयोग आन्दोलन में भाग लेने के कारण सन 1921 में भी 3 मास के कारावास का दण्ड मिला था।

आपके घर से साम्यवादी एंव आपत्तिजनक साहित्य बरामद होने के कारण प्रेस क़ानून के अन्तर्गत सन 1933 में 6 मास कड़ी कैद और भारतीय दण्ड संहिता की धारा 124-अ के अन्तर्गत 18 मास कड़ी कैद की सजा पायी।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स