विनायक चतुर्थी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

विनायक चतुर्थी / Vinayak Chaturthi

भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।

  • यह व्रत चतुर्थी को करना चाहिए।
  • इस दिन कर्ता तिल का भोजन दान करता है और स्वयं रात्रि में तिल का जल ग्रहण करता है।
  • यह दो वर्षों तक करना चाहिए।
  • कृत्यकल्पतरु और हेमाद्रि[१] ने इसे गणपति चतुर्थी कहा है।[२]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु(व्रतखण्ड 79, भविष्य पुराण 1|22|1-2 का उद्धरण); हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 519-520)
  2. धर्मशास्त्र खण्ड 4, गणेश चतुर्थी (गत अध्याय 8)

संबंधित लेख