वैकुण्ठ तीर्थ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

वैकुण्ठ तीर्थ / Vaikunth Tirth

वैकुण्ठतीर्थें य: स्नाति मुच्यते सर्वपातके:।
सर्वपापविनिर्मुक्तो विष्णुलोकं स गच्छति ॥

जो व्यक्ति वैकुण्ठ तीर्थ में स्नान करता है वह सभी प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है और वह व्यक्ति सर्वप्रकार के पापों से मुक्त होकर विष्णुलोक को चला जाता है।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
गीता अध्याय-Gita Chapters
टूलबॉक्स