श्रीप्राप्ति व्रत

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

(1) हेमाद्रि[1] के मत से जो कमल में रखकर लक्ष्मी प्रतिमा का पूजन करता है, वह एक यज्ञ का फल प्राप्त करता है।

(2) वैशाख पूर्णिमा के उपरान्त पहली तिथि पर आरम्भ होता है।

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत0 1, 575, विष्णुधर्मोत्तरपुराण से उद्धरण)
  2. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 751, विष्णुधर्मोत्तरपुराण 3|211|1-5 से उद्धरण)।

अन्य संबंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स