साँझी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

सांझी / Sanjhi

विषय सूची

ब्रज में सांझी की अनूठी परंपरा

सांझी ब्रजमंडल के हर घर के आंगन और तिवारे में ब्रजवासी राधारानी के स्वागत के लिए सजाते रहे हैं। राधारानी अपने पिता वृषभान जी के आंगन में सांझी क्वार के पितृ पक्ष में प्रतिदिन सजाती थीं कि उनके भाई श्रीदामा का मंगल हो। इसके लिए वे फूल एकत्रित करने के लिए वन और बाग बगीचों में जाती थी। इस बहाने राधाकृष्ण (प्रिया प्रियतम) का मिलन होता था। उसी मर्यादा को जीवित रखते हुए ब्रज की अविवाहित कन्याएं आज भी क्वार मास के कृष्ण पक्ष (पितृ पक्ष) में अपने घरों में गाय के गोबर से सांझियां सजाती हैं। इसमें राधाकृष्ण की लीलाओं का चित्रण अनेक संप्रदाय के ग्रंथों में मिलता है ताकि राधा कृष्ण उनकी सांझी को निहारने के लिए अवश्य आएगें। राधा जी के धाम वृन्दावन और बरसाना के आसपास के क्षेत्रों में आज भी यह परंपरा जीवित है। शुरू में पुष्प और सूखे रंगों से आंगनों को सांझी से सजाया जाता था लेकिन समय के साथ सांझी सिर्फ सांकेतिक रह गई।

'श्यामा संग रंग सों राधे, रचना रची सुहाई।
सेवाकुंज सुहावन कीनी, लता पता छवि छाई।
मरकट मोर चकोर कोकिला, लागत परम सुखराई।

'प्यारी, तुम कौन हौ री फुलवा बीनन हारीं नेह लगन कौ बन्यौ बगीचा फूलि हरी फुलवारी।
आपु कृष्ण बनमाली आये तुम बोलौ कयों न पियारीं।
हंसि ललिता जब कह्यौ स्याम सौं ये वृषभान दुलारी। तुम्हारों कहा लगै या वन में रोकत गैल हमारी।'

चित्र विचित्र बनाव के, चुनिचुनि फूले फूल।
सांझी खेलहिं दोऊ मिल, नवजीवन समतूल।'

सांझी के प्रकार

  1. फूलों की सांझी
  2. रंगों की सांझी
  3. गाय के गोबर की सांझी
  4. पानी पर तैरती सांझी

तथ्य

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स