सूर्य

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
(सूर्य देवता से भेजा गया)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज


सूर्य / Surya


महीना

भगवान मास-सम्बद्ध नाम

सूर्य का ऋषि

अप्सरा

गन्धर्व

राक्षस

भल्ल

नाग

मधु (चैत्र)

धाता

पुलस्त्य

कृतस्थली

तुम्बुरू

हेति

रथकृत

वासुकि

माधव (वैशाख)

अर्यमा पुलह

पुलह

पुंजिकस्थली

नारद

प्रहेति

ओज:

कच्छनीर

शुक्र (ज्येष्ठ)

मित्र

अत्रि

मेनका

हहा

पौरूषेय

रथस्वन

तक्षक

शुचि (आषाढ़)

वरुण

वसिष्ठ

रम्भा

हूहू

शुक्र

चित्रस्वन

सहजन्य

नभ (श्रावण)

इन्द्र

अंगिरा

प्रम्लोचा

विश्वावसु

वर्य

श्रोता

एलापत्र

नभस्य (भाद्रपद)

विवस्वान

भृगु

अनुम्लोचा

उग्रसेन

व्याघ्र

आसारण

शंखपाल

तप (आश्विन)

पूषा

गौतम

घृताची

धनंजय

वात

सुरूचि

सुषेण

तपस्य (कार्तिक)

क्रतु

भारद्वाज

वर्चा

पर्जन्य

सेनजित

विश्व

ऐरावत

सह (मार्गशीर्ष)

अंशु

कश्यप

उर्वशी

ऋतसेन

विद्युच्छत्रु

तार्क्ष्य

महाशंख

पुष्य (पौष)

भग

आयु

पूर्वंचित्ति

स्फूर्ज

अरिष्टनेमि

ऊर्ण

कर्कोटक

इष (माघ)

त्वष्टा

ऋचीकतनय (जमदग्नि)

तिलोत्तमा

शतजित

ब्रह्मापेत

धृतराष्ट्र

कम्बल

ऊर्ज (फाल्गुन)

विष्णु

विश्वामित्र

रम्भा

सूर्यवर्चा

मखापेत

सत्यजित्

अश्वतर


  1. संज्ञा( चेतना या ऊर्जा) और
  2. छाया

'अंडमध्यगतः सूर्यो द्यावाभूम्योर्यदन्तरम।
सूर्याण्डगोलयोर्मध्ये कोट्यः स्युः पञ्चविंशतिः॥'

'मृतेऽण्ड एष एतस्मिन यद भूत्ततो मार्तण्ड इति व्यपदेशः।
हिरण्यगर्भ इति यद्धिरण्याण्डसमुद्भवः॥'

अर्थ

इस अचेतन में विराजने के कारण इसे 'मार्तण्ड' भी कहा जाता है। यह ज्योतिर्मय(हिरण्यमय) ब्रह्मांड से प्रकट हुए हैं इसलिए इन्हें 'हिरण्यगर्भा' भी कहते हैं। सूर्य ही दिशा, आकाश, द्युलोक (अंतरिक्ष) भूलोक, स्वर्ग और मोक्ष के प्रदेश , नरक, और रसातल और अन्य भागों के विभागों का कारण है। सूर्य ही समस्त देवता, तिर्यक, मनुष्य, सरीसृप और लता-वृक्षादि समस्त जीव समूहों के आत्मा और नेत्रेन्द्रियके अधिष्ठाता हैं, अर्थात सूर्य से ही जीवन है। 'सूर्येण हि विभज्यन्ते दिशः खं द्यौर्मही भिदा। स्वर्गापवर्गोनरका रसौकांसि च सर्वशः॥' 'देवतिर्यङ्मनुष्याणां सरीसृपसवीरुधाम। सर्वजीवनिकायानां सूर्य आत्मा दृगीश्वरः॥'

सूर्य की स्थिति

सूर्य ग्रहों और नक्षत्रों का स्वामी है। सूर्य उत्तरायण, दक्षिणायन और विषुवत नाम वाली क्रमशः मंद, शीघ्र और समान गतियों से चलते हुए समयानुसार मकरादि राशियों में ऊँचे-नीचे और समान स्थानों में जाकर दिन रात को बड़ा,छोटा करता है। जब मेष या तुला राशि पर आता है तब दिन-रात समान हो जाते हैं। तब प्रतिमास रात्रियों में एक-एक घड़ी कम होती जाती है और दिन बढ़ते जाते हैं। जब वृश्चिकादि राशियों पर सूर्य चलते हैं तब इसके विपरीत परिवर्तन होता है। श्रीमद्भागवपुराण में सूर्य की परिक्रमा का मार्ग नौ करोड़, इक्यावन लाख योजन बताया है। समय के साथ सूर्य को स्पष्ट करने के लिए रुपक है:'सूर्य का संवत्सर नाम का एक चक्र (पहिया) है, उसमें माह रुपी बारह अरे हैं, ऋतु रुपी छह नेमियाँ हैं और तीन चौमासे रुपी तीन नाभियाँ हैं।'

ज्योतिष में सूर्य

ज्योतिष के अनुसार सूर्य सबसे तेजस्वी, प्रतापी और सत और तमो गुण वाला ग्रह कहा गया है। यह आत्मा का कारक और हृदय एवं नाड़ी संस्थान का अधिपति है। सूर्य समस्त ब्रह्मांड का केंद्र ज्योतिष में भी माना गया है। प्राचीन ज्ञान का हर विषय मानवीकरण और रूपक के माध्यम से स्पष्ट किया गया मिलता है। सूर्य भी इससे अछूता नहीं है।

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं