सोमतीर्थ

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

सोमतीर्थ / Som Tirth

सोमतीर्थं तु वसुधे! पवित्रे यमुनाम्भसि।
तत्रभिषेकं कुर्वीत सर्वकर्मप्रतिष्ठित:।
मोदते सोमलोके तु इदमेव न संशय:।। [1]

सोमतीर्थ का दूसरा नाम गौ घाट है। यहाँ यमुना के पवित्र जल से अभिषेक करने पर सारे मनोरथ सिद्ध हो जाते हैं।

टीका-टिपण्णी

  1. आदि वाराह पुराण

सम्बंधित लिंक

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं
सुस्वागतम्