स्थिरमति बौद्धाचार्य

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

आचार्य स्थिरमति / Acharya Sthirmati

कृतियाँ

तिब्बती भाषा में स्थिरमति की छह रचनाएं उपलब्ध हैं। ये सभी रचनाएं उच्चकोटि की हैं।
(1) आर्यमहारत्नकूट धर्मपर्यायशतसाहस्त्रिकापरिवर्तकाश्यपपरिवर्त टीका। यह आर्यमहारत्नकूट की टीका है, जिसका उल्लेख तारानाथ ने किया है। यह बहुत ही विस्तृत एवं स्थूलकाय ग्रन्थ है।
(2) सूत्रालङ्कारवृत्तिभाष्य- यह वसुबन्धु की सूत्रालङ्कारवृत्ति पर भाष्य है।
(3) पञ्चस्कन्धप्रकरण- वैभाष्य- यह वसुबन्धु के पञ्चस्कन्धप्रकरण पर भाष्य है।
(4) मध्यान्तविभङ्ग-टीका- यह मैत्रेयनाथ के मध्यान्तविभङ्ग टीका है।
(5) अभिधर्मकोशभाष्यटीका- यह अभिधर्मकोश भाष्य पर तात्पर्य नाम की टीका है।
(6) त्रिंशिकाभाष्य।
इनके समस्त ग्रन्थ टीका या भाष्य के रूप में ही हैं। इनका कोई स्वतन्त्र ग्रन्थ उपलब्ध नहीं है। इनके माध्यम से आचार्य वसुबन्धु का अभिप्राय पूर्ण रूप से प्रकट हुआ है।

सम्बंधित लिंक


निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स