कालिय नाग

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान)ने किया हुआ 12:42, 2 नवम्बर 2013का अवतरण
(अंतर) ← पुराना संस्करण | वर्तमान संशोधन (अंतर) | नया संशोधन → (अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

कालिय नाग / कालियदह / Kaliya Nag / Kaliyadah

विभिन्न कथाएँ

Blockquote-open.gif इसका वर्तमान नाम कालियदह है। श्रीकृष्ण ने कालिय नाग का यहीं दमन किया था। पास में ही केलि-कदम्ब है, जिसपर चढ़कर श्रीकृष्ण कालीयह्रद में बड़े वेग से कूदे थे। कालिय नाग के विष से आस-पास के वृक्ष-लता सभी जलकर भस्म हो गये थे। केवल यही एक केलि–कदम्ब बच गया था। Blockquote-close.gif

जनरल एलेक्जेंडर कनिंघम

जनरल एलेक्जेंडर कनिंघम ने भारतीय भूगोल लिखते समय यह माना कि क्लीसीबोरा नाम वृन्दावन के लिए है। इसके विषय में उन्होंने लिखा है कि कालिय नाग के वृन्दावन निवास के कारण यह नगर `कालिकावर्त' नाम से जाना गया। यूनानी लेखकों के क्लीसोबोरा का पाठ वे `कालिसोबोर्क' या `कालिकोबोर्त' मानते हैं। उन्हें इंडिका की एक प्राचीन प्रति में `काइरिसोबोर्क' पाठ मिला, जिससे उनके इस अनुमान को बल मिला। [2] परंतु सम्भवतः कनिंघम का यह अनुमान सही नहीं है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कस्यानुभावोऽस्य न देव विद्महे
    तवाडिघ्ररेणुस्पर्शाधिकार: ।
    यद्वाच्छया श्रीर्ललनाऽऽचरत्तपो
    विहाय कामान् सुचिरं धृतव्रता ॥
    (श्रीमद्भा0 10/16/36)
  2. देखिए कनिंघम्स ऎंश्यंट जिओग्रफी आफ इंडिया (कलकत्ता 1924) पृ0 429।
निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स