छबीले लाल गोस्वामी स्वतंत्रता सेनानी

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

श्री छबीले लाल गोस्वामी / Chhabile Lal Goswami

आत्मज श्री किशोरी लाल गोस्वामी।

वृन्दावन, मथुरा

असहयोग आन्दोलन के दौरान खुर्जा में राजद्रोहात्मक भाषण देने के कारण सन 1922 में डेढ़ वर्ष का कारावास का दण्ड मिला।

पर 6 मास बाद छूट गये। स्वर्गवासी हैं।

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
टूलबॉक्स
अन्य भाषाएं