दिवाकर व्रत

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • हस्त नक्षत्र में रविवार पर यह व्रत किया जाता है।
  • यह सात रविवारों तक किया जाता है।
  • भूमि पर खिंचे 12 दलों वाले कमल पर सूर्य की पूजा की जाती है।
  • प्रत्येक दल पर क्रम से सूर्य, दिवाकर, दिवस्वान्, भग, वरुण, इन्द्र, आदित्य, सविता, अर्क, मार्तण्ड, रवि, भास्कर बैठाये जाते हैं।
  • वैदिक तथा अन्य मन्त्र पढ़े जाते हैं।[१]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु (व्रतखण्ड 23-25); हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 523-533, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण)।

अन्य संबंधित लिंक