नारायणोपनिषद

ब्रज डिस्कवरी, एक मुक्त ज्ञानकोष से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

<sidebar>

  • सुस्वागतम्
    • mainpage|मुखपृष्ठ
    • ब्लॉग-चिट्ठा-चौपाल|ब्लॉग-चौपाल
      विशेष:Contact|संपर्क
    • समस्त श्रेणियाँ|समस्त श्रेणियाँ
  • SEARCH
  • LANGUAGES

__NORICHEDITOR__

  • सुस्वागतम्
    • mainpage|मुखपृष्ठ
    • ब्लॉग-चिट्ठा-चौपाल|ब्लॉग-चौपाल
      विशेष:Contact|संपर्क
    • समस्त श्रेणियाँ|समस्त श्रेणियाँ
  • SEARCH
  • LANGUAGES

__NORICHEDITOR__

  • कृष्ण यजुर्वेदीय उपनिषद
    • अक्षि उपनिषद|अक्षि उपनिषद
    • अमृतनादोपनिषद|अमृतनादोपनिषद
    • कठोपनिषद|कठोपनिषद
    • कठरूद्रोपनिषद|कठरूद्रोपनिषद
    • कलिसन्तरणोपनिषद|कलिसन्तरणोपनिषद
    • कैवल्योपनिषद|कैवल्योपनिषद
    • कालाग्निरूद्रोपनिषद|कालाग्निरूद्रोपनिषद
    • चाक्षुषोपनिषद|चाक्षुषोपनिषद
    • क्षुरिकोपनिषद|क्षुरिकोपनिषद
    • तैत्तिरीयोपनिषद|तैत्तिरीयोपनिषद
    • दक्षिणामूर्ति उपनिषद|दक्षिणामूर्ति उपनिषद
    • ध्यानबिन्दु उपनिषद|ध्यानबिन्दु उपनिषद
    • नारायणोपनिषद|नारायणोपनिषद
    • रूद्रहृदयोपनिषद|रूद्रहृदयोपनिषद
    • शारीरिकोपनिषद|शारीरिकोपनिषद
    • शुकरहस्योपनिषद|शुकरहस्योपनिषद
    • श्वेताश्वतरोपनिषद|श्वेताश्वतरोपनिषद

</sidebar>

नारायणोपनिषद

  • कृष्ण यजुर्वेदीय इस लघु उपनिषद में चारों वेदों का उपदेश सार मस्तक के रूप में वर्णित है। प्रारम्भ में 'नारायण' से ही समस्त चेतन-अचेतन जीवों और पदार्थों का प्रादुर्भाव बताया गया है। बाद में नारायण की सर्वव्यापकता और सभी प्राणियों में नारायण को ही आत्मा का रूप बताया है। नारायण और प्रणव (ॐकार) को एक ही माना है।
  • आदिकाल में नारायण ने ही संकल्प किया कि वह प्रजा या जीवों की रचना करे। तब उन्हीं से समस्त जीवों का उदय हुआ। नारायण ही समष्टिगत प्राण का स्वरूप है। उन्हीं के द्वारा 'मन' और 'इन्द्रियों' की रचना हुई। आकाश, वायु, जल, तेज और पृथ्वी उत्पन्न हुए। फिर अन्य देवता उदित हुए।
  • भगवान नारायण ही 'नित्य' हैं। ब्रह्मा, शिव, इन्द्र, काल, दिशाएं आदि सभी नारायण हैं। 'ओंकार' के उच्चारण से ही 'नारायण' की सिद्धि होती है। जो साधक 'नारायण' का स्मरण करता है, उसके सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। योगी साधक जन्म-मृत्यु के बन्धनों से छूटकर 'मोक्ष' प्राप्त कर लेता है।


सम्बंधित लिंक